Advertisement


UP TET 2021 : अटक गया है UP TET सर्टिफिकेट, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने लगायी है रोक, समझिये पूरा मामला


UP TET 2021 : Uttar Pradesh Teacher Eligibility Test 2021 के परिणाम जारी होने के बाद माननीय इलाहाबाद उच्च न्यायालय से अग्रिम सुनवाई तक प्रमाणपत्र जारी करने पर रोक लगा दी है। इसके साथ ही न्यायालय ने उत्तर प्रदेश सरकार ने BEd अभ्यर्थियों के संबंध में NCTE द्वारा नयी सूचना जो प्राइमरी स्कूल मे सहायक शिक्षक के रूप के नियुक्ति के लिए हो वह आयी है या नही इसकी भी जानकारी मांगी है। बताते चलें कि यह निर्णय न्यायमूर्ति सिद्दार्थ जी ने प्रतीक मिश्रा व अन्य के याचिका पर सुनवाई करते हुए लिया।

समझिये क्या है पूरा मामला प्रकरण -

दरअसल BEd डिग्रीधारक पहले प्राइमरी स्कूलों में नियुक्त होने के योग्य नही थे लेकिन NCTE के 28 जून 2018 के अधिसूचना के अनुसार BEd डिग्रीधारकों को भी योग्य मान लिया गया। इस अधिसूचना को माननीय राजस्थान हाइकोर्ट में चुनौती दी गयी और राजस्थान उच्च न्यायालय ने अधिसूचना को गलत बताते हुए रद्द कर दिया और कहा कि BEd डिग्रीधारक प्राइमरी स्कूल में सहायक शिक्षक होने के योग्य नही है।

BEd डिग्रीधारको ने भी दिया है एग्जाम -

वहीं दूसरी ओर NCTE के अधिसूचना को आधार मानकर हजारों BEd पूर्ण किए छात्र-छात्राओ ने भी UPTET 2021 की परीक्षाएँ दी है। इसी संदर्भ में उत्तर प्रदेश सरकार से जवाब मांगा गया है कि माननीय राजस्थान हाइकोर्ट द्वारा इस अधिसूचना को रद्द किए जाने के बाद कोई नयी सूचना आयी है नही। ऐसे में अगर राजस्थान उच्च न्यायालय के फैसले पर ही सबकुछ जारी होता है तो BEd डिग्रीधारको के लिए यह एक निराश करने वाली खबर होगी। हालाँकि मामले की अग्रिम सुनवाई 16 मई 2022 को है। अग्रिम सुनवाई तक कोई भी प्रमाण पत्र जारी न करने को कहा गया है।

बाकी हर छोटी बड़ी अपडेट के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल व वेबसाइट के खबरों से अपडेट रहिए। वेबसाइट पर पहली बार आए हैं तो सबसे तेज अपडेट पाने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़िये जिसका लिंक नीचे हरे पट्टी में दिया गया है। आप हमारा ऐप भी डाऊनलोड कर सकते हैं जहाँ हर अपडेट तेज़ी से मिलती है।

ऐप डाउनलोड : लिंक
Previous Post Next Post
Advertisement


फास्टर अप्डेट्स के लिए जुड़िये हमारे टेलीग्राम चैनल से - यहाँ क्लिक करिये

एडवरटाइज हटाएं यहाँ क्लिक करें